Indian Embassy (London) ਦੇ ਬਾਹਰ ਸਾਂਤਮਈ Protest ਕਰ ਰਹੇ Sikha ਤੇ Hindu ਅੱਤਵਾਦੀਆ ਨੇ ਕੀਤਾ ਹਮਲਾ
ਭਾਰਤੀ ਮੋਦੀ ਦੇ ਚੇਲਿਆਂ ਨੇ ਕੀਤੀ ਦਸਤਾਰ ਦੀ ਬੇਅਦਬੀ
ਬੇਅਦਬੀ ਕਰਨ ਵਾਲੇ ਨੂੰ ਸਿੰਘ ਕਦੇ ਵੀ ਮਾਫ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ,
ਸੋਧਾਂ ਲਾਉਂਦੇ ਨੇ ਹੁਣ ਮੋਦੀ ਤੇ ਉਸ ਦੇ ਚੇਲਿਆਂ ਨੂੰ ਕੋਮ ਤੋਂ ਮਾਫੀ ਮੰਗਣੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ
#London #Sikh #Protest #Hindu_Terrorism
Pakistan Zindabad
Free Kashmir
Khalishtan Zindabad
Refferundm 2020
SFJ Zindabad
Like comment share 🙏

29 comments

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  • Indian Embassy (London) ਦੇ ਬਾਹਰ ਸਾਂਤਮਈ Protest ਕਰ ਰਹੇ Sikha ਤੇ Hindu ਅੱਤਵਾਦੀ ਨੇ ਕੀਤਾ ਹਮਲਾ
    ਭਾਰਤੀ ਮੋਦੀ ਦੇ ਚੇਲਿਆਂ ਨੇ ਕੀਤੀ ਦਸਤਾਰ ਦੀ ਬੇਅਦਬੀ
    ਬੇਅਦਬੀ ਕਰਨ ਵਾਲੇ ਨੂੰ ਸਿੰਘ ਕਦੇ ਵੀ ਮਾਫ ਨਹੀਂ ਕਰਦੇ,
    ਸੋਧਾਂ ਲਾਉਂਦੇ ਨੇ ਹੁਣ ਮੋਦੀ ਤੇ ਉਸ ਦੇ ਚੇਲਿਆਂ ਨੂੰ ਕੋਮ ਤੋਂ ਮਾਫੀ ਮੰਗਣੀ ਚਾਹੀਦੀ ਹੈ
    ਕੱਲ ਭਾਰਤੀ ਐਮਬੈਸੀ ਲੰਡਨ ਦੇ ਬਾਹਰ ਭਾਈ ਪੰਮੇ ਤੇ ਸਾਥੀਆਂ ਵੱਲੋਂ ਭਾਰਤੀਆ ਨੂੰ ਛਕਾਏ ਚਾਹਟੇ ਦੀ ਪੂਰੀ ਕਹਾਣੀ ਇਸ ਵੀਡਿਉ ਵਿੱਚ ਦੇਖੋ…ਜਿਹੜਾ ਸਿੰਘਾਂ ਨੇ ਚੜ ਕੇ ਆਉਗਾ…ਸਿੰਘ ਇਵੇਂ ਹੀ ਠੋਕਣਗੇ
    ਖਾਲਿਸਤਾਨ ਜ਼ਿੰਦਾਬਾਦ
    ਰਿਫਰੈਂਡਮ 2020 ਜ਼ਿੰਦਾਬਾਦ
    Pakistan Zindabad
    Free Kashmir
    Khalishtan Zindabad
    Refferundm 2020
    SFJ Zindabad
    Like comment share 🙏

  • 🌸🌼ਭਿਡਰਾਵਾਲੇ 🌼🌸
    🌸ਖਾਲਸੇ ਦਾ ਰਾਜ ਹੋਓ🌼
    🌼ਖਾਲਸੇ ਦੀ ਜ਼ਮੀਨ ਹੋਓ 🌸
    🌼🌸ਖਾਲਸੇ ਦਾ ਆਸਮਾਣ ਹੋਓ🌼🌸

  • •॥#समय_की_सीख_या_समय_से_सीख॥•
    ———————————————-

    जब बाबर ने अपने घोड़ों का मुँह भारतवर्ष की ओर मोड़ा था उस समय उसकी पलटन में मात्र दस हज़ार सैनिक थे। फिर ये चमत्कार कैसे हुआ की उसकी क्षीणतम सेना ने महान और शक्तिशाली भारतवर्ष को अपने अधिकार में ले लिया ?
    ऐसा क्या हुआ कि मुट्ठी भर बबरिया सैनिकों ने मन भर के भारत को अपने आधिपत्य में ले लिया ?

    कहा जाता है की बाबर हमारी सैन्य शक्ति को देख लौटने पर विवश हो गया था किंतु जिस रात वह लौटने का मन बना रहा था उस रात उसने भारतीय राजा के विशाल सैन्य शिविर में कई अलग-अलग स्थानों पर आग जलते हुए देखी उसने अपने सेना नायक से इन अग्नि खंडों का कारण जानना चाहा तो उसे पता चला की ये अलग- अलग चूल्हों में जलने वाली आग है, ये भारतीय सैनिक हैं जो अपनी रसोई बना रहे हैं वे विभिन्न वर्गों और वर्णों में बँटे हुए हैं ये एक दूसरे के साथ भोजन नही करते।

    बस फिर क्या था ! बाबर के हताश मन में आशा की चिंगारी सुलग गई उसने विचार किया की जिस सेना में सैनिक एक दूसरे को समान नही मानते, जो वर्गों, वर्णों में बँटे हुए हैं, जो अपने ही लोगों को हीनता की दृष्टि से देखते हैं, जो अपनों का ही अपमान करने में विश्वास करते हैं जो एक दूसरे के मान की रक्षा करने के स्थान पर एक दूसरे को अपमानित करते हुए स्वयं के अभिमान को पुष्ट करते हैं वे बाहर से भले ही विशाल, शक्तिशाली, और अखंड दिखाई दें किंतु अंदर से बुरी तरह खंडित होते हैं, ऐसे लोगों को शक्ति से नही युक्ति से परास्त किया जा सकता है। और तब बाबर ने लौटने का विचार छोड़ दिया, उसने भारत की शक्ति को भारत के विरुद्ध ही इस्तेमाल करते हुए मुग़ल साम्राज्य की नींव रख दी।

    इतिहास में दर्ज कारणों पर ग़ौर करेंगे तो हम पाएँगे कि भारत की पराजय का कारण कोई और नही हम भारतीय ही थे, हमारा एक दूसरे के प्रति घोर अविश्वास, एक दूसरे को मिटाकर समाप्त कर देने लालसा, एक दूसरे के लिए नफ़रत, वैमनस्य, शंका, भर्त्सना का भाव, एक दूसरे को अपमानित, कुंठित करने की इच्छा ही हमारी पराजय के मूल में थी।
    हम एक देश में रहने के बाद भी एक दूसरे को हेय दृष्टि से देखते थे, अपनी श्रेष्ठता सिद्ध करने के लिए हम अपने ही लोगों को अश्रेष्ठ साबित करने का प्रयास करते थे, हमारी योग्यता का प्रमाण हमारा कर्म नहीं अपितु किसी दूसरे को अयोग्य साबित करना हो गया था।

    जब हम स्वयं ही एक दूसरे को मिटा देना चाहते हों, हम स्वयं ही एक दूसरे के लिए ईर्ष्या, क्रोध, कुंठा से भरे हुए एक दूसरे को अपमानित करने की चाहत से भरे हुए हों तब किसी अन्य को हमें पराजित करने के लिए उद्यम नही करना पड़ता।
    किसी शायर ने कहा है-
    “ना झगड़ें हम आपस में, झगड़कर टूट जाएँगे।
    तुम्हारा आइना हम हैं, हमारा आइना तुम हो॥”

    स्मरण रखिए- किसी और से लड़कर तो हम विजय प्राप्त कर सकते हैं किंतु स्वयं के विरुद्ध छेड़ा गया युद्ध हमें पराजय की पीड़ा देता है।~#आशुतोष_राणा 🌹😊🙏

  • सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा था 90% भारतीय मूर्ख हैं,
    और ये बात अब सच लग रही है, हमारी मूर्खता का पैमाना ये है कि …..
    – एक आदमी लाखों का सूट-बूट पहनकर कहता है कि मैं गरीब हूं और हम उसे गरीब मान लेते हैं !
    – CBI, NIA जैसी एजेंसियां जिस आदमी के हाथों की कठपुतली हैं वह आदमी कह रहा है कि मुझे सताया जा रहा है और हम मान लेते हैं !
    – जो संसद मे पूर्ण बहुमत में है बीस से ज्यादा राज्यों मे सरकार है वह कहता है कि मुझे काम नही करने दिया जा रहा है और हम मान लेते हैं !
    – जो भ्रष्टाचार में जेल में रह चुके लोगों को टिकट देता है फिर कहता है, मै भ्रष्टाचारियों के खिलाफ लड़ रहा हूं और हम मान लेते हैं !
    – जिसके शासन मे सबसे ज्यादा हमारे सैनिक शहीद हुए हैं वह कहता है, दुश्मन हमसे कांप रहा है और हम मान लेते हैं !
    – जिसके समय मे सबसे ज्यादा किसानों ने आत्महत्या की है और वह कहता है, हमने किसानों की आय दुगुना कर दी है और हम मान लेते हैं !
    – जिसके समय में पकौड़ा तलने के लिए कहा जाता है और हम उसे रोजगार मान लेते हैं !
    – जिसके राज्य मे सबसे ज्यादा बलात्कार हो रहे हैं और वह कहता है हम बेटी बचाओ अभियान चला रहे हैं और हम मान लेते हैं !

    जो सुंदर भविष्य (अच्छेदिन) का सपना दिखाकर सत्ता में आया हो और वो हमसे सैंकड़ों-हजारों साल पुरानी कब्रें खुदवाकर हमें घुमा रहा हो और फिर भी लोग उसके जुमले से खुश हैं ??????
    #मित्रोंबदलदो2019

  • ज़ालिम से डरना हार की बड़ी वजह होती है
    उसकी आंख में आंख डालकर बिना डरे बात की जाए तो भेड़िया भी दुबक कर भाग जाता है।

    (बचपन मे कहीं पढ़ा था)

  • ਤੁਸੀਂ ਪੱਥਰਾਂ ਦੇ ਲੱਨ ਬਣਾ ਕੇ ਲਿਆਉ ਉਪਰ ਸੀਤਾ ਮਾਤਾ ਨੂੰ ਬਿਠਾ ਦਿਉ ਹਿੰਦੂ ਕੁਤੇ ਮੁਰਦਾਬਾਦ ਮੁਰਦਾਬਾਦ ਮੁਰਦਾਬਾਦ

  • ਸਿੰਘਾੰ ਨੇ ਮਾਰ ਮਾਰ ਚਪੇੜਾੰ ਮੋਦੀ ਦੇ ਚੇਲਿਆੰ ਨੂ ਨਾਨੀ ਜਾਦ ਕਰਾਤੀ ਜੀ ॥॥ ਬਾਹਮਣੀ ਦੇ ਪੂਤ ਹਲਦੀ ਤੇਲ ਸਾੜ ਕੇ ਲਓਣ ਗੇ ਹੁਣ ॥ ਗਿੱਦੜ ੳੁਠ ਕੇ ਸੇਰਾੰ ਨਾਲ ਪੰਗੇ ਲੈੰਦੇ ਆ ॥ ਮੋਦੀ ਨੂੰ ਕਹੋ ਸਾਡੇ ਚਪੇੜਾੰ ਬਹੁਤ ਵੱਜੀਆੰ Khalistan jindabad

%d bloggers like this: